संदेश

July 24, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

दिलो में तुम अपनी बेताबियां लेकर चल रहे हो तो ज़िंदा हो तुम

दिल आखिर तू क्यों रोता है