संदेश

March 22, 2009 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बहुत याद आये तालिबान मुझे

टूट गई सिंगुर की आख़िरी आस

अब कंहा आते है डाकिये